आधुनिक भारत के निर्माण के साथ भारत में लोकतंत्र को ईमानदारी से स्थापित किया था नेहरू ने---
27 मई 1964 - पुण्य स्मृति पर विशेष :- मनोविज्ञान और मनोविश्लेषण की भाषा में जवाहरलाल नेहरू पूर्णतः अपने पिता के पुत्र थे, जबकि-गांधी जी अपनी माता की संतान थे। जवाहर लाल नेहरू ने अपने पिता मोतीलाल नेहरू से स्वतंत्रता, साहस की भावना, जोखिम उठाने की क्षमता, दृढ़ इच्छाशक्ति, अविचल संकल्प और अभिजात्य स…
Image
*दहेज*
समाज में दहेज नाम की बीमारी लग गयी है लोगों में !! जिस दिन आप लड़की के माँ बाप से दहेज लेते हैं उसी दिन आप अपना आत्मसम्मान खो देते हैं !! जो जितना  दहेज लेता हैं उसका उतना ही ज्यादा नाम होता हैं!!  जो लड़की ज्यादा दहेज लेकर आती हैं  !!  उसको उतना ही नाम इज्जत मिलता हैं !!  और दहेज के खिलाफ कितने का…
Image
भारत में प्रथम सामाजिक क्रांति के प्रणेता थे महात्मा बुद्ध
महात्मा बुद्ध भारत में न केवल प्रथम सामाजिक क्रांति के प्रणेता थे अपितु महात्मा बुद्ध ने भारतीय चिंतन परम्परा में "सामाजिक न्याय" की सर्वप्रथम सर्वश्रेष्ठ व्याख्या प्रस्तुत की और सुप्रसिद्ध यूनानी सोफिस्ट दार्शनिकों पाइथागोरस और प्रोटेगोरस की तरह सामाजिक न्याय को सूक्ष्मता से परिभाषित किय…
Image
*गृहणी के दिल की बात*
जानती हूँ आजकल नारी काफी जागरूक व सबला होती नजर आ रही है लेकिन अभी भी कुछ स्थानों पर देखने को मिलता है कि यदि कोई नारी एक गृहणी है, और यदि वो नहीं कमाती  है तो  क्यों उस नारी के कार्यों कम आंका जाता है?? पुरुष का अहोदा बड़ा होता है आखिर ये क्यों जताया जाता है ?? क्यों एहसास दिलाया जाता है?? कि वह …
Image
विलक्षण प्रतिभा के धनी थे एशिया के प्रथम नोबल पुरस्कार विजेता रबिन्द्र नाथ टैगोर
कवि, दार्शनिक, शिक्षाविद, उत्कट देशभक्त, सर्वश्रेष्ठ मानवतावादी, प्रकृतिवादी, उच्च कोटि के पर्यावरणविद तथा विश्व बंधुत्व और विश्व नागरिकता के प्रखर समर्थक रबिन्द्र नाथ टैगोर भारत की साहित्यिक, सांस्कृतिक, दार्शनिक और आध्यात्मिक आत्मा के अपने दौर के सर्वश्रेष्ठ अधिवक्ता थे। वह भारतीय मेधाशक्ति और ज्…
Image
यूनीवर्सल बेसिक इन्कम आत्म निर्भर मानवता के लिए आवश्यक : डॉ. एच एन सिंह पटेल
आज का "यूनीवर्सल बेसिक इन्कम" का सिद्धान्त बुद्ध के बहुजन हिताय, बहुजन सुखाय, संत रविदास (चाहूँ ऐसा राज मैं, मिले सबन को अन्न, छोट बड़ो सब सम बसे, रैदास रहे प्रसन्न), थॉमस पेन, मार्टिन लूथर किंग (गारंटीड इन्कम), रिचर्ड निक्सन (बेसिक इन्कम बिल), रगर ब्रैगमैन, डाॅ अंबेडकर के पे बैक टू सोसाय…
Image
भगवान परशुराम जन्मोत्सव पर विशेष
महर्षि भृगु के पुत्र ऋचिक का विवाह राजा गाधि की पुत्री सत्यवती से हुआ था। विवाह के बाद सत्यवती ने अपने ससुर महर्षि भृगु से अपने व अपनी माता के लिए पुत्र की याचना की। तब महर्षि भृगु ने सत्यवती को दो फल दिए और कहा कि ऋतु स्नान के बाद तुम गूलर के वृक्ष का तथा तुम्हारी माता पीपल के वृक्ष का आलिंगन कर…
Image
इस दुनिया का असली निर्माता, कर्म क्षेत्र और कर्मठ्ता का नायक मेहनतकश मजदूर ही हमारा मसीहा है
गहरे समुद्र में गोते लगाने वाली पनडुब्बी से लेकर अनंत अंतरिक्ष में सुपरसोनिक विमान बनाने वाला मेहनतकश मजदूर  एक दिन दुनिया का मालिक जरूर बनेगा। हमारे धर्म ग्रंथों में बताया गया है कि-इस विशाल ब्रहमांड में पृथ्वी चान्द तारे ग्रह सब ईश्वर ने बनाया है इसलिए उसको इस ब्रह्माण्ड का मालिक कहा जाता हैं। इस…
Image
श्रम शक्ति राष्ट्र की आर्थिक उन्नति का सबसे बड़ा आधार है : रंजीता सिंह
राष्ट्र के विकास के लिए  व्यक्ति को अपने जीवन में श्रम शक्ति को आधार बनाना चाहिए मजदूर दिवस को समर्पित करते हुए श्रम शक्ति से जुड़ी हुई देवरिया जिले की श्रम शक्ति से जुड़ी महिला रंजीता सिंह ने अपने लेख में कहा कि विश्व मजदूर दिवस की बात की जाए तो इसे 'मई दिवस' (May Day) के नाम से भी जाना जा…
Image
हमारे घर ऑगन में गुड़ के साथ बनने वाली मिटाठिया मिठास के साथ ममता प्यार स्नेह और लेकर दूसरे ऑगन पहुंचती थी
चीनी के साथ बनने वाली मिटाठियाॅ तीसरे पहर तक सड गल जाती हैं परन्तु गुड भेली के साथ बनने वाली मिटाठियाॅ महीनों खराब नहीं होती थी। हमारे घर ऑगन में गुड के साथ तिल, गुड के साथ मूंगफली और गुड के साथ अन्य पदार्थों को बनाकर बनने वाली मिटाठियों का दौर लगभग खत्म हो गया। गुड के साथ बनने वाली मिटाठियाॅ मही…
Image
धर्म का मर्म नहीं समझने वाले ही करते हैं दंगा-फसाद और नफरत परोसते हैं : मनोज कुमार सिंह
धर्म का बाजारीकरण और राजनीतिकरण दोनों स्वस्थ समाज और गतिशील लोकतंत्र के लिए खतरनाक है। धर्म का बाजारीकरण बढ्ने से धर्म मुनाफ़े वाला चोखा धंधा बन जाता है। धर्म का राजनीतिकरण होने से राजनीति के सारे दुर्गुण (छल, कपट, प्रपंच, सत्ता लोलुपता इत्यादि) धर्म में समाहित होने लगते हैं तथा धर्म के प्रभाव में आ…
Image
भूदान आंदोलन के माध्यम से समानता लाने का अनूठा प्रयास किया था संत विनोबा भावे ने.....
आज ही के दिन सन 1951 में विनोबा जी को भूदान आंदोलन के लिए सर्वप्रथम आंध्र प्रदेश के पोचमपल्ली गाँव में भूमिहीन वर्ग में वितरित करने हेतु तकरीबन 100 एकड़ जमीन दान में मिली थी। भूदान आंदोलन 13 वर्ष तक निरंतर तीव्रता से चलता रहा जिसके दौरान विनोबा ने 80,000 किलोमीटर पैदल चल कर 47,00,000 एकड़ से अधिक …
Image
हिन्दी साहित्य की अनमोल धरोहर है अयोध्या सिंह उपाध्याय "हरिऔथ" : मनोज कुमार सिंह
हिन्दी साहित्य के दैदीप्यमान नक्षत्र राहुल सांस्कृत्यायन, महान शायर और मशहूर रंगकर्मी कैफी आजमी और साहित्यरत्न शिव प्रसाद गुप्त जैसी विभूतियों को अपने आंचल में पल्लवित पुष्पित और विकसित करने वाली साहित्य और संस्कृति की उर्वरा भूमि आजमगढ़ के निजामाबाद में 15 अप्रैल 1865 में पैदा हुए अयोध्या सिंह उपाध…
Image
आधुनिक भारत के राष्ट्र नायक बाबा साहब भीमराव रामजी अंबेडकर को सलाम
आज भारत को आजाद हुए लगभग 75 वर्ष हो चुके हैं इन वर्षों में भारत में राजनीतिक परिपेक्ष में कई फेरबदल उतार-चढ़ाव नियामक सक्रियता और असक्रियता रही।  बारीकियों से इन तथ्यों पर विचार किया जाए तो 1757 के बाद 1773 में आई रेगुलेटिंग एक्ट ने भारत की नियामक प्रणालियों को पूर्ण तरीके से बदल कर रख दिया, बंगाल …
Image