बलिया जिला में पर्यटन की है अपर सम्भावनाएँ, पर्यटन का हब बन सकता है बलिया : डा0 गणेश कुमार पाठक
राष्ट्रीय पर्यटन दिवस पर विशेष :-    अमरनाथ मिश्र पी० जी० कालेज, दूबेछपरा, बलिया के पूर्व प्राचार्य एवं जननायक चन्द्रशेखर विश्वविद्यालय बलिया के पूर्व शैक्षिक निदेशक पर्यावरणविद् डा० गणेश कुमार पाठक ने एक विशेष भेंटवार्ता में बताया कि जनपद बलिया विविधताओं एवं विभिन्नताओं से भरा पड़ा है। खनिज संसाधन …
Image
नव वर्ष 2023 का कैलेंडर-रविवार से शुरु, रविवार से खत्म
21वीं सदी में 10 बार आएगा 2023 का कैलेंडर पूरी दुनिया में आम आदमी के लिए 'रविवार' का दिन एक छुट्टी का दिन होता है। इस बार नववर्ष 2023 की शुरुआत 1 जनवरी, दिन रविवार से हो रही है एवं समापन भी 31 दिसंबर, दिन रविवार से हो रहा है। साल के पहले दिन व अंतिम दिन रविवार का होना आम आदमी के लिए एक सुखद…
Image
आइये, अपने परिवार की तरह अपने पड़ोसी को भी प्यार करें!
क्रिसमस दिवस (25 दिसम्बर) पर विशेष लेख :- (1) इस धरती का परमपिता परमात्मा एक है :- क्रिसमस या बड़ा दिन ईसा मसीह या यीशु के जन्म की खुशी में 25 दिसम्बर को मनाया जाने वाला पर्व है। आधुनिक क्रिसमस की छुट्टियों में एक दूसरे को उपहार देना, चर्च मंे प्रार्थना समारोह और विभिन्न सजावट करना शामिल है। इस सजा…
Image
कभी प्रेम, कभी घृणा से काटी जाती बोटियां, हर बार धोखे और विश्वासघात से सहमती और सिसकती है बेटियां.....
लगभग हर रोज आप पेपर उठाते हैं तो महिला के शोषण के खबर पढ़ते हैं, इसी क्रम में कभी-कभी कुछ ऐसा हो जाता है जो रूह को भी हिला दे, जो आपकी रातों की नींद उड़ा दे और आप चिंतित हो जाएं कि आप उसी समाज में रहते हैं जहां रोज जहां एक तरफ किसी न किसी बेटी को या तो प्रेम के नाम पर स्वीकृति न मिलने पर तेजाब डालक…
Image
धरती पर शैतानी सभ्यता की जगह आध्यात्मिक सभ्यता स्थापित करनी है!
विश्व का हर क्षेत्र विज्ञान की नई-नई तकनीक से लाभान्वित हो रहा है। इंटरनेट के अन्तर्गत सोशल मीडिया ने विश्व में जैसा क्रांतिकारी परिवर्तन किया है, वैसा किसी भी अन्य साधनों ने नहीं किया। सोशल मीडिया विश्व के किसी भी कोने में बैठे विश्ववासी के मध्य संवाद का एक सशक्त माध्यम बन गया है। यह किसी भी सूचना…
Image
जलजमाव की जटिल समस्या, निदान जरूरी
बलिया। बिहार और उत्तर प्रदेश की पूर्वी सीमा पर स्थित जनपद बलिया धार्मिकता, राजनीति, स्वतंत्रता संग्राम में अग्रणी भूमिका निभाने वाला भले ही कहा जाता है किंतु यह कटु सत्य है कि जनपद अनेकों समस्याओं से दो-चार हो रहा है। अशिक्षा, गरीबी, स्वास्थ्य, शिक्षा, सड़के, शहर का जाम नाली एवं जलजमाव आदि की समस…
Image
”दीपावली आत्मा के प्रकाश का त्योहार है“ शुभ दीपावली-अशुभ पटाखे!
मंगलमय दीपावली पर्व के अवसर पर विशेष लेख :- (1) दीपावली का पर्व हमें अपने अन्दर आत्मा का प्रकाश धारण करने की प्रेरणा देता है :- भारत के सबसे महत्त्वपूर्ण त्योहारों में से एक “दीपावली” प्रकाश पर्व के रूप में मनाया जाता है। विश्व के अलग-अलग देशों में रहने वाले प्रवासी भारतीय भी इस पर्व को प्रकाश पर्व…
Image
समतामूलक, लोकतंत्रिक, धर्मनिरपेक्ष और समाजवादी भारत बनाने के लिए आजीवन संघर्ष करते रहे जयप्रकाश नारायण
11 अक्टूबर 1902 लोकनायक जय प्रकाश जयंती समारोह   स्वाधीनता उपरांत शहीदों के सपनों के अनुरूप  समतामूलक, लोकतंत्रिक, धर्मनिरपेक्ष, समाजवादी और आधुनिक भारत बनाने के लिए जिन हृदयो में गहरी तडप, बेचैनी और  छटपटाहट थी उनमें लोक नायक जय प्रकाश नारायण अग्रिम कतार में थे। इसलिए आचार्य नरेन्द्र देव, डॉ राम म…
Image
अहंकार रूपी रावण को अपने अंदर मारने के लिए राम रूपी ईश्वरीय गुण अपने अन्दर विकसित करना चाहिए!
5 अक्टूबर - दशहरा पर्व पर विशेष लेख :- (1) दशहरा पर्व हर्ष और उल्लास का त्योहार है :- दशहरा हमारे देश का एक प्रमुख त्योहार है। इसे असत्य पर सत्य की विजय के रूप में मनाया जाता है। इसीलिये इस दशमी को विजयादशमी के नाम से जाना जाता है। इस दिन जगह-जगह मेले लगते हैं तथा रामलीला का आयोजन होता है। रावण का …
Image
प्रकृति संरक्षण के लिए समर्पित था गाँधीजी का जीवन दर्शन : डा० गणेश पाठक
गाँधी जयन्ती 2 अक्टूबर पर विशेष :-    अमरनाथ मिश्र पी जी कालेज दूबेछपरा के पूर्व प्राचार्य एवं जननायक चन्द्रशेखर विश्वविद्यालय बलिया कै पूर्व शैक्षिक निदेशक डा० गणेश कुमार पाठक ने एक भेंटवार्ता में बताया कि वर्तमान समय में महात्मा गाँधी के पर्यावरण संरक्षण संबंधी विचारों की सार्थकता और बढ़ गयी है। ह…
Image
भारतीय समाज को जातिवादी, साम्प्रदायिक और दंगाई मानसिकता से मुक्ति दिलाने के लिए अद्वितीय प्रयास किया था महात्मा गांधी ने
युद्ध, हिंसा और आक्रमण के विचार सर्वप्रथम मनुष्य के मन, मस्तिष्क और हृदय में उपजते हैं और इसकी अंतिम और वास्तविक  परिणति युद्ध के मैदान, गृहयुद्ध, दंगा-फसाद और अन्य हिंसात्मक गतिविधियों के रूप में होती हैं। इसलिए सम्पूर्ण विश्व के लोगों के मन, मस्तिष्क और हृदयो को सत्य, अहिंसा सहिष्णुता, साहचर्य, स…
Image
खूबसूरत, सदाबहार और सर्वजीवी संसार बनाने का संकल्प ही भगवान विश्वकर्मा की सच्ची आराधना हैं
हमारी पौराणिक मान्यताओं और धार्मिक विश्वासों के अनुसार भगवान विश्वकर्मा को इस बसुन्धरा का प्रथम अभियंता माना जाता हैं। भगवान विश्वकर्मा ने अपनी अद्वितीय अभियांत्रिकी प्रतिभा से एक ऐसी खूबसूरत दुनिया बनाई जिसमें छोटे-मोटे कीडे-मकोड़े से लेकर  विशालकाय नीली ह्वेल जैसे स्तनपायी आनंद के साथ जीवन जीते है…
Image