पिता ने 15 माह के मासूम को जिंदा नहर में फेंका, आरोपी के पुत्रवधू से थे संबंध

यूपी के कासगंज ज‍िले में रिश्तों को कलंकित करने वाली एक सनसनीखेज घटना सामने आई है जिसमें पिता और पुत्र, ससुर और पुत्रवधू जैसे रिश्ते इस हद तक कलंकित हुए क‍ि कलंकित रिश्तों ने 16 माह के मासूम की बलि ले ली. एक बाप अपनी पुत्रवधू की आशिकी में इस कदर हैवान बन गया कि अपने मासूम पुत्र को नहर में फेंकने से पहले हाथ भी नहीं कांपे.

मासूम को नहर में फेंक कर शातिर पिता ने उसके अपहरण की सूचना पुलिस को दे दी. अभी पुलिस कुछ कर पाती, तब तक आरोपी के बड़े पुत्र ने पुलिस के सामने अपनी पत्नी और अपने पिता की आशिकी का काला चिट्ठा पुलिस के सामने खोलते हुए अपने मासूम भाई की हत्या का आरोप अपने पिता पर लगा दिया.

पीड़ित की तहरीर पर पुल‍िस ने आरोपी पिता और पुत्रवधू को गिरफ्तार कर लिया.आरोपी की निशानदेही पर पुलिस हजारा नहर में मासूम के शव को खोज रही है लेकिन नहर में तेज धार के कारण पुलिस को अभी तक कामयाबी नहीं मिली है.

दरअसल, यह पूरी शर्मनाक और दिल दहलाने वाली पूरी घटना कासगंज शहर के मोहल्ला ज्वालापुरी निवासी किशन कुमार की है. आरोपी के बड़े बेटे सचिन की मानें तो उसके पिता के अवैध संबंध पुत्रवधू से थे और अवैध संबंधों के चलते उसने अपने बड़े बेटे सचिन के साथ उसकी शादी कर दी थी.

शादी के बाद किशन कुमार अपनी पुत्रवधू से संबंध बनाता रहा. दोनों का प्यार बढ़ रहा था और एक-दूसरे के साथ जिंदगी भर साथ देने के लिए कसमें वादे भी हो गए. इसी बीच किशन ने अपनी पत्नी से दूसरे बेटे को जन्म दे दिया, लेकिन यह बात पुत्रवधू को मंजूर नहीं थी. इसी बात को लेकर पुत्रवधू और ससुर किशन कुमार में तीखी नोकझोंक होने लगी. अवैध संबंध टूटने की कगार पर पहुंच गये लेकिन इश्क में अंधे पिता किशन कुमार ने 16 माह के मासूम को दूनिया से हटाने का मन बना लिया और 16 माह के बेटे यश को 27 फरवरी को जिंदा हजाराा नहर में फेंक दिया और पुलिस को अपने बेटे के अपहरण की सूचना दी. 

पुलिस अभी इस पूरे मामले पर कुछ करती, तब तक आरोपी किशन के बड़ेे बेटे सचिन ने अपने पिता और अपनी पत्नी के कारनामों का काला चिट्ठा खोलते हुए पुलिस को मासूम यश के अपहरण की तहरीर पुलिस को दे दी. पुलिस ने आरोपी पिता और उसकी माशूका को हिरासत में लिया और कड़ाई से पूछताछ की तो पता लगा कि किशन कुमार ने अपने ही लाड़ले को हजारा नहर में फेंक दिया था.

फिलहाल पुलिस आरोपी पिता द्वारा कबूल की गई घटना के बाद मासूम यश को गोताखोरों की मदद से नहर में तलाश कर रही है. सबसे बड़ा सवाल उठता है कि 15 माह के मासूम का क्या दोष था और दुनिया देखने से पूर्व इश्क में अंधे पिता ने उसे दुनिया से हटा दिया.

बड़े बेटे सचिन कुमार ने बताया क‍ि मेरा भाई रात में सो रहा था. हम सो गए थे तो फिर सुबह उठे तो वह वहां पर था नहीं. पुलिस को जानकारी दी. मुझको पापा पर और मेरी वाइफ पर शक है. मेरे पापा कई बार कोशिश कर चुके हैं. पापा का और वाइफ का कई सालों से अफेयर चल रहा है और बच्चे का कोई पता नहीं है. 

कासगंज एसपी मनोज कुमार सोनकर ने बताया क‍ि दिनांक 28 फरवरी को सचिन ज्वालापुरी मोहल्ले के थाना कासगंज के द्वारा यह सूचना दी गई. लिखित तहरीर दी गई कि इनके पिता किशन द्वारा और इनके स्वयं की पत्नी ममता द्वारा इनका छोटा भाई यश जो 15 महीने का है, उसको गायब कर दिया गया है. इस संबंध में थाना कासगंज में अभियोग पंजीकृत किया गया. विवेचना के दौरान इनके पिता के साथ गिरफ्तार हुए और आज इनकी स्वयं की पत्नी ममता दोनों लोगों ने जुर्म स्वीकार किया. उन्होंने बताया कि जमीन का छोटा भाई सो रहा था तो उन्होंने उसको कंबल में लपेट कर अपनी मैक्स पिकअप से ले जाकर हजारा नहर में फेंक दिया. बच्चे की तलाश की जा रही है और जिस मैक्स पिकअप से इन्होंने बच्चे को फेंका था, उसको भी बरामद कर लिया गया है. बच्चे की बरामदगी अभी इसलिए नहीं हो पाई है क्योंकि पानी का बहाव तेज है. आसपास गोताखोर और जाल लगाया गया है.



Comments