शस्त्र के शौकीनों के लिए बड़ी खबर, नई आधुनिक रिवॉल्वर 'प्रहार' हुई लॉन्च, जानें खासियत व कीमत


कानपुर। शस्त्र (Arms) के शौकीनों के लिए बड़ी खबर है। 50 मीटर की दूरी तक मार करने वाली नई रिवाल्वर 'प्रहार' बाजार में आ गई है, जो वजन में हल्की, आधुनिक व बेहद आकर्षक है। आत्मनिर्भर भारत की ओर आगे बढ़ते हु शुक्रवार को लघु शस्त्र निर्माणी (एसएएफ) ने इसे कानपुर में लॉन्च किया गया है। ओवरऑल 177.6 एमएम की लेंथ व .32 कैलिबर वाली यह नई रिवाल्वर दो मॉडलों में लॉन्च हुई है जिसे अंतरराष्ट्रीय रिवाल्वर 'वेब्ले स्काट' का कॉम्पटीटर बताया जा रहा है। इसकी कीमत डीलरों के लिए 71 हजार रुपए रखी गई है, जिसमें 28 फीसदी जीएसटी अलग से लगेगा। शनिवार से इसकी बुकिंग शुरू हो गई। चार जनवरी के इसकी डिलेवरी भी आरंभ कर दी जाएगी। लॉन्चिंग कार्यक्रम के दौरान अपर महाप्रबंधक तुषार त्रिपाठी, रोली वर्मा, कार्यप्रबंधक आरके मिश्रा, संयुक्त महाप्रबंधक आलोक वाजपेयी, पवन कुमार के अतिरिक्त अभय मिश्रा व तमाम अन्य डीलर भी मौजूद रहे।

यह हैं फीचर्स- निर्माणी के महाप्रबंधक एके मौर्य ने रिवॉल्वर के फीचर्स को लेकर बताया कि इसका लुक काफी बेहतर है। पकड़ने के लिए इसकी ग्रिप वुडेन व प्लास्टिक में दी गई है। 750 ग्राम इसका वजन है। खास सिरैमिक पेंट से इसे पेंट किया गया है। दोहरी सेराकोटेड सतह की गई है। काली व टाइटेनियम में इसके सिलिंडर बनाए गए हैं। उन्होंने कहा कि स्त्र के शौकीन ग्राहकों की डीमांड व उनके फीडबैक को लेकर इस रिवॉल्वर का निर्माण किया गया है। इसका डिजाइन लंदन की क्रेनफील्ड विश्वविद्यालय के डीसीएम कॉलेज से डिजाइन में एमएससी करने वाले निर्माणी अधिकारी पवन कुमार ने तैयार किया है। इसकी खासियत ये भी है कि देश में अब तक बनीं सिविल रिवॉल्वर में इसकी मारक क्षमता उनसे दोगुनी से ज्यादा है।

ट्रायल में खरी उतरी रिवाल्वर- रिवाल्वर का ट्रायल माइनस 30 डिग्री से लेकर 55 डिग्री तापमान पर किया गया। यह हर मौसम व सभी तरह की परिस्थितियों में खरी उतरी है। महाप्रबंधक का कहना है कि रूस और आयुध निर्माणी कोरबा के संयुक्त उपक्रम एके 203 राइफल के कई उपकरण निर्माणी में बनेंगे। अभी कंपनी के बीच समझौता होना बाकी है। इसके अलावा ज्वाइंट वेंचर प्रोटेक्टिव कारबाइन (जेवीपीसी) हर प्रकार के ट्रायल में सफल हो चुकी है। आर्मी व अन्य सैन्य बलों से जल्द ही अच्छे संख्या में आर्डर मिलने की उम्मीद है। इसके अतिरिक्त निर्माणी की बेल्ट फेल्ड लाइट मशीनगन तकनीक बिड में सफल हो चुकी है।



Comments