ह-से हिंदू + म-से मुसलमान? यानि *(((हम)))* अगर एक हैं तो दुनिया की कोई ताकत हमें लड़ा नहीं सकती।








जहाँ प्यार मुहब्बत अमन चैन और गंगा जमुनी तहजीब का विशाल दरख़्त लगा हो वहाँ चंद लोग नफरत के बीज़ बोने में कभी कामयाब नहीं हो सकते।

लखनऊ। गंगा जमुनी तहजीब की ज़िंदा मिसाल पेश करते हुए होलिका दहन के समय डीजे बजाते वक्त नमाज़ व अज़ान का वक्त होने पर जहाँ विक्की कुक्की गोलू अजय रमेश व तमाम हिन्दू भाइयों ने डीजे बंद कर दिया शबेकद्र की रात होने की वजह से हमेशा की तरह पूरी रात डीजे नहीं बजाया। वहीं मुस्लिम भाइयों ने होली के रंग में सराबोर टोलियों का हर चौराहे पर खूशनुदगी के साथ इस्तेकबाल किया। इस बार का त्यौहार इसलिए भी यादगार और खुशगवार हो गया क्योंकि कमिश्नरेट पुलिस ने हर थाने स्तर पर सभ्य नागरिकों व्यापारियों मीडिया कर्मियों व सिविल डिफेंस के लोगों के साथ मीटिंगे करके प्लान तैयार किया और उस पर अमली जामा पहनाया। पुलिस कर्मी उलंघन करने वालों का चालान करने से परहेज़ करते नज़र आये और बहुत ही प्यार से समझाते हुए नज़र आये। वहीं सिविल डिफेंस की टीम व्यापार मंडल की टीम तथा मीडिया कर्मियों ने  त्यौहार को अच्छे से निपटाने के लिए उनके कदम से कदम मिलाकर पूरा सहयोग किया और अमन चैन के साथी बने।

एक मिसाल और काबिले तारीफ रही सुप्पा कब्रस्तान के गेट पर होलिका दहन हो रहा था उसी गेट से मुस्लिम समाज की भीड़ अंदर जा रही थी हिंदू भाई मुस्लिम का अभिवादन कर रहे थे मुस्लिम समाज अपना स्वागत होता महसूस कर रहा था।

यकीनन ऐसा कम ही देखने को मिलता है और इससे ये भी साबित होता है 

 *ह-हिन्दू म-मुस्लिम ((हम))* साथ हैं तो सब मुमकिन है।

 *"परवेज़ अख्तर"* "पत्रकार" लखनऊ

मो0-9335911148, 9454786073

Comments