'नारी बुक बैंक‘ योजना के तहत एन.ई.रेलवे सीनियर सेकेण्ड्री स्कूल में छात्र-छात्राओं को दी गई पुस्तकें



गोरखपुर 26 फरवरी, 2021: पूर्वोत्तर रेलवे सीनियर सेकेण्ड्री स्कूल, गोरखपुर में 26 फरवरी, 2021 को ‘नारी बुक बैंक‘ कार्यक्रम के तहत प्रमुख मुख्य कार्मिक अधिकारी श्रीमती रीता पी. हेमराजानी की अध्यक्षता में आयोजित एक समारोह में निर्धन एवं जरूरतमंद बालिकाओं को निःशुल्क पाठ्यक्रम के अनुसार पुस्तकें प्रदान किया तथा उनका उत्साहबर्धन किया। समारोह का शुभारम्भ मुख्य अतिथि द्वारा दीप प्रज्जवलित कर किया गया। इस अवसर पर विद्यालय प्रागंण में बनाये गये वनहयस्पति उद्यान का उद्घाटन भी श्रीमती हेमराजानी द्वारा किया गया। 

इस अवसर पर प्रमुख मुख्य कार्मिक अधिकारी श्रीमती रीता पी. हेमराजानी ने अपने सम्बोधन में कहा कि आज बालिकायें हर क्षेत्र में आगे बढ़ रही हैं। नारी बुक बैंक के सहयोग से बालिकाओं को दिये गये पुस्तकों से उनको आगे पढ़ने में मदद मिलेगी, जो धनाभाव के कारण षिक्षा से वंचित रह जाती हैं। उन्होंने कहा कि यह विद्यालय नगर का काफी प्रतिष्ठित विद्यालय है। जो लोग इस विद्यालय से पढ़कर आज अच्छी नौकरी या व्यवसाय कर रहे हैं उनकी भी अपने स्कूल के प्रति जिम्मेदारी बनती है कि वे स्कूल को आगे बढ़ाने में अपना सहयोग दें। मुख्य अतिथि ने कहा कि स्कूल को आगे बढ़ाने में यहाँ के प्राचार्य श्री अरूण कुमार सक्सेना एवं षिक्षकों का महत्वपूर्ण योगदान है, जो कि सकारात्मक सोच के साथ इसमें लगे हुये हैं। इस विद्यालय का रिजल्ट काफी अच्छा आ रहा है। छात्र-छात्राओं से अपील कि की वे  पूरी मेहनत के साथ षिक्षा ग्रहण करें। उन्होंने कहा कि छात्र-छात्राओं को प्रेक्टिकल रूप से पढ़ाई करनी चाहिये तथा उन्होंने यहाँ से पढ़े हुये पूर्व छात्रों का आह्वान किया कि वे यहाँ के छात्र-छात्राओं की काउन्सिलिंग कर उनका स्कील डेवलपमेंट करने के लिये आगे आयें। उन्होंने विद्यालय में कैंटीन की रूप-रेखा बनाने हेतु प्राचार्य को निर्देषित किया। 

अपने स्वागत सम्बोधन में प्रधानाचार्य श्री अरूण कुमार सक्सेना ने कहा कि बालिकाओं से देश के भविष्य का निर्माण होता है। एक षिक्षित नारी पूरे परिवार और समाज को शिक्षित बनाने में अपना बहुमूल्य योगदान देती है। नारी बुक बैंक की स्थापना लगभग एक माह पूर्व रेलवे के अधिकारियों, प्रधानाचार्य तथा विद्यालय के भूतपूर्व छात्रों द्वारा निर्धन एवं जरूरतमंद छात्राओं को कक्षा-छः से कक्षा-बारह तक की पुस्तकें निःशुल्क देने के उद्देष्य से की गई। इस बुक बैंक अब तक लगभग 7000 पुस्तकें प्राप्त हुई हैं, जिनमें से आज तक लगभग 5000 पुस्तकें जरूरतमंद छात्राओं में बांटी जा चुकी हैं। इस बुक बैंक में दान की जाने वाली पुस्तकों में प्रमुख योगदान विद्यालय के प्रधानाचार्य श्री ए.के.सक्सेना, एम.एल.सी. श्री सी.पी.चन्द, पूर्व छात्र डा0 अम्बरीश अस्थाना, रेलवे के अन्य अधिकारियों एवं भूतपूर्व छात्रों का योगदान सराहनीय रहा है। 

विद्यालय के कार्यकारी अधिकारी एवं उप मुख्य इंजीनियर/गोरखपुर क्षेत्र श्री रविन्दर मेहरा ने धन्यवाद ज्ञापन करते हुये कहा कि विद्यालय उत्तरोत्तर प्रगति के पथ पर अग्रसर हो रहा है। उन्होंने मुख्य अतिथि को उनके सुझावों के लिये धन्यवाद देते हुये उनके सुझावों पर अमल करके हम विद्यालय को नई ऊचाइयों पर पहुंचायेंगे। 



                                                     


                              

                                



Comments