श्रीराम जन्मभूमि मन्दिर निर्माण के संबंध में बैठक





बलिया। शनिवार के दिन नागाजी सरस्वती विद्या मंदिर व.मा. विद्यालय, माल्देपुर में श्रीराम जन्मभूमि मन्दिर निर्माण महाभियान समिति, बलिया के तत्वाधान में समाज के विशिष्ट लोगों की एक बैठक हुई जिसमें, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के गोरक्ष प्रान्त के प्रांत प्रचारक श्री सुभाष जी का मार्गदर्शन प्राप्त हुआ। सर्वप्रथम अतिथियों द्वारा प्रभु श्रीराम जी के चित्र के सम्मुख दीप प्रज्ज्वलन के पश्चात के बैठक  प्रारम्भ हुयी।

अपने सम्बोधन में प्रान्त प्रचारक जी ने बताया कि राम सभी की ताकत है। राम का हमारे जीवन में बहुत उच्च स्थान है। राम ही सत्य है तथा राम ही हमारी पहचान है। एक आदर्श राजा की रूप में, एक आदर्श पुत्र के रूप में, एक आदर्श पति के रूप में राम का चरित्र उच्चकोटि का है इसीलिए राम पुरुषोत्तम राम कहे जाते हैं।

रामजन्मभूमि हमारे लिए गौरव की बात है और वह हमारी अस्मिता से जुड़ा है। उन्होंने बताया कि मन्दिर की मुक्ति के लिए हिन्दू समाज आतातायियों से 76 बार युद्ध किया। सन 1990 में कारसेवा हुई जिसमें उस समय की सरकार ने कारसेवकों पर गोलियां चलवा दी जिसमें हजारों रामभक्तों ने अपना बलिदान दिया।

उन्होंने आगे बताया कि 6 दिसम्बर 1992 को पुनः कारसेवा हुई और विवादित ढांचा गिरा दिया गया। 6 दिसम्बर 1992 को एक अध्याय की पूर्ति हुई तथा 9 नवम्बर 2019 को माननीय उच्चतम न्यायालय ने सभी साक्ष्यों के आधार पर निर्णय दिया कि विवादित स्थल श्रीरामजन्मभूमि है और सरकार को आदेशित किया कि सरकार एक ट्रष्ट गठित कर राम मंदिर का निर्माण करें। आज अयोध्या में 'श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र न्यास' के तत्वाधान में एक भव्य रामजी का मंदिर का निर्माण होने जा रहा है।

प्रान्त प्रचारक जी नें उपस्थित  सज्जनों से इस मंदिर निर्माण में समर्पण व सहयोग की बात कही।

इस अवसर पर बलिया जिले के जिला संघचालक मा. भृगु जी, गोरक्ष प्रान्त के सह प्रान्त कार्यवाह श्री विनय जी, जिला प्रचारक श्री सत्येंद्र जी व बलिया जिले के प्रतिष्ठित चिकित्सक,अधिवक्ता, व्यवसायी व मातृ शक्तियां उपस्थित थीं।

रिपोर्ट:- *विक्की कुमार गुप्ता*



Comments