वैज्ञानिकों को समुद्र के नीचे मिले भूकंप के संकेत, किसी भी वक्त आ सकती है तबाही


तेल अवीव। पूरी दुनिया कोरोना महामारी से जूझ रही है और इससे अब तक लाखों लोगों की मौत हो चुकी है। पिछले साल दुनिया अन्य कई प्राकृतिक आपदाओं से जूझी, वहीं अब एक ऐसी खबर सामने आई है जो बहुत ही परेशान करने वाला है।

दरअसल, समुद्र के अंदर एक हलचल देखा गया है। आशंका जाहिर की जा रही है कि आने वाले सालों में भीषण तबाही आ सकती है। इजरायल के वैज्ञानिकों को मृत सागर ( Dead Sea ) में ड्रिलिंग के दौरान बहुत ही खतरनाक संकेत मिले हैं। वैज्ञानिकों को फॉल्ट लाइन पर तनाव दिखा है, जिससे अब ये आशंका पैदा हो गई है कि आने वाले सालों में यहां भीषण भूकंप ( Massive Earthquake ) आ सकता है।

तेल अवीव यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों की इस टीम ने कहा है कि यदि भूकंप आता है तो सैंकड़ों लोगों की जान जा सकती है। हालांकि अभी कुछ भी नहीं कहा जा सकता है कि भूकंप कब आएगा। बता दें कि टेक्टॉनिक प्लेटों में हलचल के कारण धरती की बाहरी सतह पर तनाव पैदा होता है।

अगले 10 साल में आ सकता है भूकंप

आपको बता दें कि शोधकर्ताओं की टीम मृत सागर में कई सौ मीटर तक ड्रिलिंग कर इस बात का अध्ययन कर रही है कि पिछले 2.2 लाख वर्षों में कब-कब भूकंप आया है। हर सतह एक मिलीमीटर मोटी है और हर साल बाढ़ आने का बाद गर्मियों में पानी भाप में बदल जाने से तलछट जमा हो जाता है। जब भूकंप आता है तो ये तलछट आपस में मिल जाते हैं, जिससे ये पता लगाना बहुत ही मुश्किल है कि भूकंप कब आया था।

शोधकर्ताओं का कहना है कि अभी तक के जांच में ये कुछ हलचल देखने को मिला है। आने वाले कुछ वर्षों में भूकंप आ सकते हैं। रिक्टर स्केल पर इसकी तीव्रता 6.5 आ सकता है। इसके कारण इमारतें गिर सकती है, जिससे भारी नुकसान की संभावना है।

रिसर्च में पता चला है कि फॉल्ट लाइन पर हर 120-150 साल के अंतराल पर भूकंप आते ही हैं। लेकिन इस बार संभव है कि यह भूकंप 10 साल के अंदर हो जाएगा। इससे पहले 1927 में भूकंप आया था। इसमें 500 लोगों की मौत हो गई थी, जबकि 700 से अधिक लोग घायल गए थे। भूकंप का यह असर जॉर्डन, जेरूसलम, बेथलेहम और जाफ्फा में देखा गया था।




Comments