बलिया : कलश यात्रा के साथ शुरू हुआ चार दिवसीय गायत्री महायज्ञ





बलिया। महावीर घाट स्थित गायत्री शक्तिपीठ पर मां गायत्री के प्राण प्रतिष्ठा का तीसरा वार्षिकोत्सव के शुभ अवसर पर शुक्रवार को भव्य कलश शोभायात्रा निकली। इसमें जिले के कोने-कोने से सैकड़ों श्रद्धालुओं ने भाग लिया, मां गायत्री व गुरुदेव के गगन भेदी जयकारों के उद्घोष पूरा नगर भक्तिमय हो गया।

 कार्यक्रम की शुरुआत मां गायत्री, पंडित श्रीराम शर्मा आचार्य व माता भगवती देवी के चित्र पर फूल माला व दीप प्रज्वलित कर किया गया। इसके बाद नगर चेयरमैन अजय कुमार गुप्ता व उनकी पत्नी सरिता गुप्ता के द्वारा ध्वजारोहण ध्वजा पूजन किया गया। शांतिकुंज हरिद्वार से आये विद्वान आचार्यों के द्वारा मंगल गीत व ध्वज गीत के भव कलशयात्रा प्रारंभ हुआ। 

कलशयात्रा गायत्री शक्तिपीठ से महावीर घाट होते हुए चमनसिंह बाग, लोहापट्टी, चौक,सिनेमा रोड, हनुमान मंदिर, बालेश्वर मंदिर, नया चौक, चित्रगुप्त रोड होते हुए भृगुमुनि मंदिर के परिसर में पहुंची, जहाँ वैदिक मंत्रोच्चार के द्वारा कलश देवता का पूजन किया गया, उसके बाद जलपूर्ण कार्यक्रम किया गया। वहां से कलशयात्रा सतीशचंद्र कालेज, मालगोदाम रोड, रेलवे स्टेशन, चौक से गुदरी बाजार होते हुये गायत्री शक्तिपीठ पहुंची जहाँ कलश देवता की आरती के बाद मंडप में कलश स्थापना हुई।

 इस दौरान नगर के दर्जनों स्थानों पर गायत्री साधकों का भव्य स्वागत किया गया। शोभायात्रा प्रभारी बब्लू जी के द्वारा खूबसूरत सजावट व भव्य झाकियों के साथ कलशयात्रा निकलवाया गया। यज्ञ रक्षा दल के प्रभारी पंडित अनिल द्विवेदी व उनकी टीम के राजेश मिश्रा, अजीत द्विवेदी, मंटू पान्डेय, प्रेम शंकर दुबे, आदित्य यादव ने सराहनीय योगदान दिया। कोविड नियमों के पालन पर रहा विशेष ध्यान बलिया।

शक्तिपीठ से निकाले गए कलशयात्रा में करीब सौकडौ श्रद्धालुओ ने भाग लिया। इस दौरान शक्तिपीठ की ओर से सबको मास्क उपलब्ध कराया गया, ताकि बिना मास्क के कोई कार्यक्रम में न रहे। मुख्य गेट पर सेनिटाइजर की व्यवस्था भी की गई थी।इस तरह कोरोना को ध्यान में रखते हुए बचाव की पूर्ण तैयारी थी।

रिपोर्ट:- *विक्की कुमार गुप्ता*



Comments