आईपीएस अंकिता शर्मा : खुद छोटे गांव से निकलकर अफसर बनीं, अब ड्यूटी के बाद ग़रीब युवाओं को पढ़ाती हैं

छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर के आजाद चौक इलाके में नगर पुलिस अधीक्षक पद पर तैनात IPS अंकिता शर्मा चर्चा में हैं. दरअसल, वो उन युवाओं की मदद के लिए सामने आई हैं, जो उनकी तरह अफसर बनने का सपना देख रहे हैं मगर कोचिंग की फीस देने में सक्षम नहीं हैं. इसके लिए वो रविवार के दिन UPSC की तैयारी कर रहे करीब 25 बच्चों को पढ़ाने का काम कर रही हैं. 

छत्तीसगढ़ के एक छोटे से गांव से हैं अंकिता   

अंकिता जिन युवाओं को पढ़ा रही हैं, उनमें से ज्यादातर बच्चे महंगे कोचिंग संस्थानों की फ़ीस देने में सक्षम नहीं हैं. बता दें, अंकिता खुद छत्तीसगढ़ के दुर्ग जिले के एक छोटे से गांव से हैं. अपने इलाके के सरकारी स्कूल से शुरुआती पढ़ाई करने के बाद उन्होंने उच्च शिक्षा हासिल की और खुद को प्रशासनिक सेवाओं के लिए तैयार किया. 2018 में वो अपने तीसरे प्रयास में यूपीएससी की परीक्षा पास करने में सफ़ल रहीं.

UPSC में 203वीं रैंक लाकर रौशन किया नाम   

203वीं रैंक हासिल कर उन्होंने अपने परिवार और ज़िले का नाम रौशन किया. अंकिता शर्मा रायपुर में लगातार हो रहे क्राइम को कंट्रोल करने के लिए भी जानी जाती हैं. उनके पति विवेकानंद शुक्ला आर्मी में मेजर है और वर्तमान में मुंबई में तैनात हैं. 

Comments