डायबिटीज मरीज रोज खाली पेट पीयें भिंडी का पानी, ब्लड शुगर पर होगा इंस्टैंट कंट्रोल

Diabetes Diet : शरीर में कोलेस्ट्रॉल ज्यादा होने पर हृदय रोग के साथ ही डायबिटीज का खतरा भी बढ़ता है। भिंडी इसपर काबू करता है

Foods for Diabetes Patients : डायबिटीज एक लाइलाज बीमारी है जिसमें ब्लड शुगर का स्तर अनियंत्रित हो जाता है। बता दें कि खून में ग्लूकोज का स्तर तब बढ़ता है जब शरीर के अहम हिस्से पैन्क्रियाज में इंसुलिन का उत्पादन कम मात्रा में होने लगता है। खराब जीवन शैली और अस्वस्थ खानपान के कारण ये बीमारी आज के समय में बेहद आम हो गई है। इस बीमारी को साइलेंट किलर कहा जाता है क्योंकि डायबिटीज के लक्षण जल्दी सामने नहीं आते हैं। ब्लड शुगर का स्तर ज्यादा होने पर आंखें, किडनी, दिल व लिवर पर भी बुरा असर पड़ता है। ऐसे में ब्लड शुगर लेवल कंट्रोल करना जरूरी है।

कम GI और पोषक तत्वों का है खजाना : 

स्वास्थ्य विशेषज्ञ डायबिटीज रोगियों को कम ग्लाइसेमिक इंडेक्स युक्त फूड्स खाने की सलाह दी जाती है। हेल्थ एक्सपर्ट्स के अनुसार सौ ग्राम भिंडी का ग्लाइसेमिक इंडेक्स महज 7.45 ग्राम होता है। भिंडी में पोषक तत्वों का भंडार पाया जाता है। इसमें पोटैशियम, एंटी-ऑक्सीडेंट्स और डायटरी फाइबर्स पाए जाते हैं जो ब्लड शुगर के स्तर पर नियंत्रण पाने में मददगार है।

वजन कम करने में मददगार : 

मोटापा डायबिटीज समेत कई बीमारियों का जड़ है, ऐसे में इस पर नियंत्रण रखना जरूरी है। भिंडी के सेवन से वजन कम करने में भी मदद मिलती है। भिंडी मेटाबॉलिज्म को मजबूत बनाता है जिससे वजन कम करने की प्रक्रिया आसान हो जाती है। कम कैलोरी और फैट फ्री होने के कारण भिंडी को वेट लॉस फूड में शामिल किया जाता है।

कोलेस्ट्रॉल करता है कंट्रोल : 

शरीर में कोलेस्ट्रॉल ज्यादा होने पर हृदय रोग के साथ ही डायबिटीज का खतरा भी बढ़ता है। भिंडी एक ऐसी सब्जी है जिसमें किसी भी तरह का फैट मौजूद नहीं होता है। ऐसे में ये कोलेस्ट्रॉल कम करने में मददगार है। इसमें पाए जाने वाले तत्व बैड फैट को कम करके शरीर में गुड फैट की क्वांटिटी बढ़ाते हैं जो स्वास्थ्य पर सकारात्मक असर छोड़ते हैं।

कैसे और कितना करेंं सेवन : 

4 से 5 मध्यम आकार की भिंडी ले लें और उन्हें अच्छे से साफ कर लें। अब इन सबको 4-4 टुकड़ों में काट लें और किसी जार में रख लें। अब 1 से 1.5 लीटर पानी को उस जार में रखें। अब किसी पतले से कपड़े से उसे ढ़कें। 8 से 12 घंटे तक भिंडी को पानी में रहने दें। इसके बाद भिंडी को अच्छे से निचोड़ दें ताकि उसका एक्सट्रैक्ट निकल जाए। सुबह खाली पेट इसका सेवन करें।







Comments