कृषि विरोधी तीनों कानून भी वापस होंगे और सरकार भी जाएगी : रामगोविंद चौधरी



किसान आंदोलन में शहीद कश्मीरा सिंह और नवरीत सिंह के परिजनों से मिले उत्तर प्रदेश के नेता प्रतिपक्ष

रामपुर। उत्तर प्रदेश के नेता प्रतिपक्ष रामगोविंद चौधरी ने कहा है कि खेती बारी की रक्षा के लिए चल रहे किसान आन्दोलन में शहीद हुए रामपुर उत्तर प्रदेश के  किसान श्री कश्मीरा सिंह और श्री नवरीत सिंह की शहादत  जाया नहीं जाएगी। इसकी वजह से खेती बारी विरोधी तीनों कानून भी वापस होंगे और इन्हें लाने वाली अम्बानी और अडानी के दोस्तों वाली सरकार भी जाएगी। उन्होंने कहा कि इसे लेकर योगी सरकार की तो उल्टी गिनती भी शुरू हो चुकी है।

उत्तर प्रदेश के नेता प्रतिपक्ष रामगोविंद चौधरी ने सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष माननीय श्री अखिलेश यादव के निर्देश पर बुधवार को किसान आंदोलन में गाजीपुर बार्डर पर शहीद हुए  रामपुर जिले के डिबडिबा और पसियापुरा निवासी श्री नवरीत सिंह औऱ श्री कश्मीरा सिंह के परिजनों से मुलाकात की, शहीदों के चित्र पर श्रद्धासुमन अर्पित किया और कहा कि अपने पांच दशक के सार्वजनिक जीवन में मैंने पहली बार ऐसी क्रूर सरकार देखी है जो किसानों की शहादत पर संवेदना भी नहीं व्यक्त कर रही है, जो किसानों की जगह कारपोरेट समूहों के हित के लिए समर्पित है, जो किसानों से उनकी खेती बारी छीनने के लिए जुल्म का नग्न नृत्य कर रही है। उन्होंने किसान आंदोलन में शहीद हुए श्री कश्मीरा सिंह और श्री नवरीत सिंह के परिजनों से कहा कि वह सरकार के इस ओछे रवैये से घबराएं नहीं, इस देश का हर किसान आपके साथ है। समाजवादी पार्टी और हमारे राष्ट्रीय अध्यक्ष माननीय श्री अखिलेश यादव तो हर पल आपके साथ हैं और रहेंगे।

उत्तर प्रदेश के नेता प्रतिपक्ष रामगोविंद चौधरी ने बेलगाम और भाजपा के वर्कर के रूप में काम कर रहे नौकरशाहों से कहा कि वह अपने में सुधार करें, कानून सम्मत काम करें, नहीं तो अपनी करनी का फल उन्हें भुगतना पड़ेगा। उन्होंने समाजवादी पार्टी के साथियों से कहा कि वह हर स्तर पर जुल्म का विरोध करें। इसके लिए बड़ी बड़ी कुर्बानी देने के लिए तैयार रहें।



Comments