यूपी शिक्षक भर्ती : 36,590 को मिले नियुक्ति पत्र, विभाग ने साफ किया इनका चयन होगा निरस्त

 

उत्‍तर प्रदेश में मुख्‍यमंत्री के 'मिशन रोज़गार' के तहत इन टीचर्स को ऑनलाइन समारोह के माध्यम से नियुक्ति पत्र वितरित किए गए। इस भर्ती अभियान से पहले, उत्तर प्रदेश सरकार ने राज्य में 54,000 से अधिक शिक्षकों की नियुक्ति की है।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्राथमिक विद्यालयों में 36,590 नव नियुक्त सहायक शिक्षकों को ऑनलाइन प्रक्रिया के माध्यम से नियुक्ति पत्र वितरित किए। मुख्यमंत्री ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से कार्यक्रम में भाग लेने वाले शिक्षकों को भी बधाई दी। “प्राथमिक विद्यालयों में नए नियुक्त शिक्षकों के उज्ज्वल भविष्य के लिए हार्दिक शुभकामनाएं दीं। निष्पक्ष और पारदर्शी भर्ती प्रक्रिया द्वारा चुने गए सभी प्रतिभाशाली और रचनात्मक शिक्षकों की ऊर्जा प्राथमिक स्तर की शिक्षा में बदलाव लाने में मदद करेगी। नव नियुक्त शिक्षकों को बधाई! ” सीएम योगी आदित्यनाथ ने ट्वीट किया। इससे पहले 16 अक्टूबर को 31,227 सहायक अध्यापकों को नियुक्ति पत्र बांट गए थे।

उत्‍तर प्रदेश में मुख्‍यमंत्री के ‘मिशन रोज़गार’ के तहत इन टीचर्स को ऑनलाइन समारोह के माध्यम से नियुक्ति पत्र वितरित किए गए। इस भर्ती अभियान से पहले, उत्तर प्रदेश सरकार ने राज्य में 54,000 से अधिक शिक्षकों की नियुक्ति की है। इस कार्यक्रम के दौरान राज्य सरकार शिक्षकों के आंतरिक तबादलों का मुद्दा भी उठाया गया। इस वर्ष की शुरुआत में, यूपी 69,000 भर्ती अभियान 2020 में तेजी लाने के संबंध में एक घोषणा की गई थी, और सहायक विद्यालय के शिक्षकों को लगभग 31,666 नियुक्ति पत्र आवंटित किए गए थे।

विभाग ने स्पष्ट किया है कि बीएसए की ओर से आवेदन पत्र प्रस्तुत करने की अंतिम तिथि 28 मई 2020 तक जारी निवास प्रमाण पत्र और जाति प्रमाण पत्र को ही स्वीकार किया जाएगा। यह भी साफ किया है कि चयनित महिला अभ्यर्थी की किसी दूसरी जाति में शादी होने मात्र से उसकी जाति नहीं बदलेगी, बल्कि वही जाति मानी जाएगी जिसमें उसने जन्म लिया है। पति के जाति प्रमाण पत्र के आधार पर आरक्षण का लाभ प्राप्त कर चयनित होने वाली महिला अभ्यर्थियों का चयन निरस्त किया जाएगा।



Comments