ऐशबाग जं0 स्टेशन पर नवनिर्मित ’चौकी जीआरपी ’ का लोकार्पण

 

लखनऊ 04 दिसम्बर 2020। पूर्वोत्तर रेलवेे लखनऊ मण्डल में उन्नत यात्री सुविधाओं के परिपे्रक्ष्य में सुरक्षित रेल यात्रा के दृष्टिगत आज ऐशबाग रेलवे स्टेशन पर नवनिर्मित ‘चौकी जीआरपी’ भवन का लोकार्पण मण्डल रेल प्रबन्धक डा0 मोनिका अग्निहोत्री एवं अपर पुलिस महानिदेशक रेलवे उत्तर प्रदेश श्री पीयूष आनन्द के कर कमलों द्वारा फलक अनावरण कर किया गया। 

इस अवसर पर अपर पुलिस महानिदेशक रेलवे उत्तर प्रदेश श्री पीयूष आनन्द ने अपने स्वागत सम्बोधन में कहा कि यह बहुत हर्ष का मौका है कि नये चौकी भवन के लोकार्पण समारोह में हम एकत्रित हुए है। रेलवे और पुलिस प्रशासन दोनो एक संयुक्त रूप से एक टीम के अन्र्तगत कार्य करते है। पूर्वोत्तर रेलवे लखनऊ मण्डल ने जीआरपी चौकी के निर्माण हेतु मूल्यवान सहयोग दिया है जिसके लिए हम आभारी है। विशेष रूप से हम सबका यह प्रयास होना चाहिए जो यात्री सफर कर रहे है, उन्हें ज्यादा से ज्यादा सुरक्षा प्रदान की जाये। 

इसके पश्चात मण्डल रेल प्रबन्धक डा0 मोनिका अग्निहोत्री ने अपने सम्बोधन में अपर पुलिस महानिदेशक रेलवे उत्तर प्रदेश श्री पीयूष आनन्द तथा पूरी जीआरपी की टीम का आभार व्यक्त किया तथा कहा कि मुझे पूरा विश्वास है कि जीआरपी चौकी की स्थापना से जीआरपी कर्मियों को डियूटी के दौरान कार्य करने में सुविधा मिलेगी। हम लोग टीम भावना के साथ कार्य करते है। मण्डल में कोविड के दौरान प्रवासी यात्रियों के लिए चलाई गयी श्रमिक स्पेशल टेªनों के संचालन में जीआरपी का महत्वपूर्ण सहयोग मिला। यात्रियों की सुरक्षा हेतु जीआरपी की सहायता और सेवाओं का लाभ उठाने के लिए इसके अधिकार क्षेत्र में आने वाले मण्डल के रेल खण्ड पर अत्याधिक लाभ मिलेगा तथा पूरे क्षेत्र में कानून और व्यवस्था की स्थिति में सुधार पर सकारात्मक रूप से प्रभाव पडे़गा तथा मण्डल में जीआरपी को अपराधियों गतिविधियों पर अंकुश लगाना अधिक आसान होगा और इससे अपराधिक मामलों को जल्दी से निपटाने में मदद मिलेगी। 

इस अवसर पर पुलिस उप महानिरीक्षक रेलवे श्रीमती पुष्पाजंलि, वरिष्ठ मण्डल सुरक्षा आयुक्त श्री अमित कुमार मिश्रा, पुलिस अधीक्षक रेलवे सौमित्र यादव, मण्डल वाणिज्य प्रबन्धक अनुज सिंह, मण्डल याॅत्रिक इंजीनियर/ईएनएचएम श्री कार्तिकेय सिंह, क्षेत्राधिकारी रेलवे (प्रथम) संजीव कुमार सिन्हा व अन्य अधिकारी तथा रेलवे/जीआरपी कर्मी उपस्थित थे।

   


Comments