प्रदेश के विभिन्न जनपदों के 114 संपर्क मार्गों के चालू  कार्यो हेतु  रू० 31करोड़ 9 लाख 63 हजार की धनराशि  की गयी अवमुक्त 


लखनऊः 28 अक्टूबर 2020। उत्तर प्रदेश  शासन द्वारा कृषि विपणन सुविधाओं  हेतु राजस्व ग्रामों /बसावटों को पक्के संपर्क मार्गों से जोड़ने के 114 चालू कार्यो के लिए 31 करोड़ 9 लाख 63 हजार की धनराशि अवमुक्त की गई है ।इस संबंध में आवश्यक शासनादेश उत्तर प्रदेश शासन द्वारा जारी कर दिया गया है।


जारी शासनादेश में विभागाध्यक्ष लोक निर्माण विभाग को निर्देशित किया गया है कि वह मार्गों को निर्धारित मानकों के अनुसार  गुणवत्तापरक रूप से पूर्ण कराकर उपयोगिता प्रमाण पत्र एवं फोटोग्राफ्स समय से शासन को उपलब्ध कराना सुनिश्चित करेंगे


 प्रदेश के अंतर्राज्यीय/ अन्तर्राष्ट्रीय सीमा पर पड़ने वाले मार्गों के निर्माण/ चौड़ीकरण एवं सुदृढ़ीकरण योजना के तहत जनपद बांदा में बदौसा -फतेहगंज मार्ग व बरछा- डंडिया मार्ग (लंबाई 19.8 किलोमीटर) के चौड़ीकरण एवं सुदृढ़ीकरण कार्य हेतु आंकलित लागत रू० 35 करोड़ 50लाख 38 हजार की  वित्तीय एवं प्रशासकीय स्वीकृति प्रदान करते  हुये उत्तर प्रदेश शासन द्वारा रू० तीन करोड़ पचास लाख की धनराशि अवमुक्त की गई है। इस सम्बन्ध मे आवश्यक शासनादेश  उ०प्र०शासन, लोक निर्माण अनुभाग-11 द्वारा  जारी कर दिया गया है। 


जारी शासनादेश में विभागाध्यक्ष ,लोक निर्माण विभाग को निर्देशित किया गया है कि वह शासनादेश में जारी दिशा निर्देशों का अक्षरश:अनुपालन सुनिश्चित कराएंगे ।कार्य की विशिष्टियां, मानक व गुणवत्ता की जिम्मेदारी सम्बंधित मुख्य अभियंता की होगी तथा वह यह भी सुनिश्चित करेंगे कि कार्य निर्धारित समय सीमा के अंदर पूरा हो जाए। निर्देश दिए गए हैं कि परियोजना के अंतर्गत यूटिलिटी से संबंधित कार्यों का  विस्तृत  आंगणन संबंधित विभागों से प्राप्त कर तथा उस पर सक्षम स्तर की तकनीकी  स्वीकृति भी प्राप्त कर ही निर्माण कार्य प्रारंभ किया जाए।


उप मुख्यमंत्री श्री केशव प्रसाद मौर्य ने संबंधित अधिकारियों को निर्देशित किया है कि वह निर्माण कार्यों को निर्धारित समय सीमा के अन्दर अनिवार्य रूप से पूरा कराएं तथा  कार्यो का लगातार निरीक्षण किया जाए और मानको तथा  गुणवत्ता का विशेष ध्यान रखा जाए। उन्होने  कहा है कि निर्माण कार्यों में किसी भी स्तर पर लापरवाही किसी भी दशा में क्षम्य नहीं होगी।


महेन्द्र कुमार 
अति०जि० सूचना अधिकारी


Comments