मुकदमा दायर कर सरकार जनता की आवाज को नही दबा सकती : सुशील पाण्डेय


बलिया। पिछले दिनों बैरिया में सपा कार्यकर्ताओं द्वारा एन एच 31 के दुर्दशा को लेकर जनसमस्याओं को लेकर आवाज़ बुलंद करना हमारे लोकतांत्रिक ब्यवस्था की खूबसूरती और मजबूती है यह विरोध प्रदर्शन एक तरह से सरकार को सजग एव सतर्क होने में भी सहायक होता है। लोकतंत्र में बिपक्ष के लोगो का कर्तब्य है कि सरकार के गलत नीतियों एव जनसमस्याओं को लेकर मुखर रहे। अगर बिपक्ष कमजोर हो जाएगा तो लोकतंत्र कमजोर तथा सरकार निरंकुश हो जाएगी। लेकिन सत्ता के मद में मदमस्त वर्तमान शासन सत्ता को जनता की आवाज़ बर्दास्त नही हो रहा है।और विरोध प्रदर्शन करने वाले लोगो को पुलिस के बल पर फर्जी मुकदमा दायर कर दबाने का प्रयास हो रहा है जो दुर्भाग्यपूर्ण है। लेकिन इन मुकदमो से समाजवादियों के आवाज़ को नही दबाया जा सकता है।

उक्त बातें समाजवादी पार्टी के जिला प्रवक्ता सुशील पाण्डेय "कान्हजी" ने राष्ट्रीय मार्ग के दुर्दशा के खिलाफ बैरिया थाना क्षेत्र के सोनबरसा चौमुहानी पर मंगलवार को शांति पूर्वक प्रदर्शन कर रहे समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष राजमंगल यादव समेत सभी नेताओं पर पुलिस द्वारा मुकदमा पंजीकृत किये जाने पर प्रतिक्रिया देते हुए कही।

कान्हजी ने कहा कि वर्तमान केंद्र एवं प्रदेश सरकार का लोकतंत्र एवं इसके ब्यवस्थाओ में विश्वास नही है बल्कि बहुमत का मद इनके सर चढ़ कर बोल रहा है। जो भी ब्याकि जनता की बात को उठाएगा यह दम्भी सरकार उसे दबाने के लिए किसी भी स्तर पर उतर जाएगी। लेकिन शायद इन्हें समाजवादियों का इतिहास पता नही है समाजवादी मुकदमो से नही डरते समाजवाद की उत्पत्ति ही संघर्ष से हुई है और इस संघर्ष से इन दम्भी सरकार का मानमर्दन समाजवादी ही करेंगे। और सत्ता पार्टी के इशारे पर कार्य कर रहे पुलिस को भी बेनकाब करेंगे कि यह पुलिस जनता की रक्षक नही बल्कि एक पार्टी विशेष की कार्यकर्ता है।

सपा प्रवक्ता ने पार्टी के तरफ से प्रेस के माध्यम से जिला प्रशासन से मांग किया है कि शांतिपूर्ण तरीके से सोनबरसा चौराहे पर प्रदर्शन कर रहे समाजवादी पार्टी के नेताओ पर दर्ज मुकदमा तत्काल वापस लिया जाय अन्यथा पार्टी इस कार्यवाही के खिलाफ जोरदार आंदोलन छेड़ेगी।



       

Comments