राजभाषा हिंदी भारतीय समाज और देश को भी सुदृढ़ बनाने में निभा रही महत्वपूर्ण भूमिका : विनय कुमार त्रिपाठी

 


गोरखपुर 07 जनवरी, 2021: महाप्रबन्धक, पूर्वोत्तर रेलवे श्री विनय कुमार त्रिपाठी की अध्यक्षता में क्षेत्रीय रेल राजभाषा कार्यान्वयन समिति की वर्चुअल बैठक 07 जनवरी, 2021 को सम्पन्न हुई। बैठक में प्रमुख विभागाध्यक्ष, मंडलों के अपर मंडल रेल प्रबन्धक सह अपर मुख्य राजभाषा अधिकारी, कारखानों के मुख्य कारखाना प्रबन्धक उपस्थित थे। इस अवसर पर महाप्रबन्धक ने रेलवे बोर्ड की सामूहिक पुरस्कार योजना वर्ष 2019 के लिये सर्वाधिक हिन्दी का प्रयोग करने वाली मुख्यालय इंजीनियरिंग विभाग, मंडलों में लखनऊ मंडल एवं कारखानों में सिगनल कारखना को नगद पुरस्कार एवं प्रषस्ति देकर सम्मानित किया।

महाप्रबन्धक श्री विनय कुमार त्रिपाठी ने सभी को नव वर्ष की शुभकामना देते हुए कहा कि यह देख कर खुशी हुई कि पूर्वोत्तर रेलवे की सम्पूर्ण कार्य संस्कृति हिंदीमय है। उन्होंने कहा कि हिन्दी भाषा सिर्फ भारतीयों के भावों तथा विचारों की अभिव्यक्ति का साधन नहीं है बल्कि इसके साथ भारत के सांस्कृतिक, धार्मिक एवं आध्यात्मिक मूल्य भी जुड़े हुए है। इस प्रकार राजभाषा हिंदी भारतीय  समाज और देश को भी सुदृढ़ बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही है। इसका शब्द भंडार बहुत ही व्यापक है। इसमें वैज्ञानिक, इंजीनियरिंग एवं तकनीकी संकल्पनाओं को भी अभिव्यक्त करने की पूर्ण क्षमता है। इसीलिये मनीषियों ने इसे भारतीय संविधान में राजभाषा के रूप में मान्यता प्रदान की है। हम अपने कार्यक्षेत्र में राजभाषा हिन्दी के निरंतर प्रयोग और प्रचलन से ही इसकी महत्ता को बनाए रख सकते है। श्री त्रिपाठी ने कहा कि यह गर्व की बात है कि रेल मंत्रालय द्वारा इस रेलवे के महानिरीक्षक सह प्रधान मुख्य सुरक्षा आयुक्त, रेलवे सुरक्षा बल श्री अतुल कुमार श्रीवास्तव को रेल मंत्री राजभाषा पदक से सम्मानित किया जायेगा। रेलवे बोर्ड के व्यक्तिगत नगद पुरस्कार योजना के अन्तर्गत वरिष्ठ मंडल विद्युत इंजीनियर, इज्जतनगर श्री सुमित गर्ग, श्री प्रदीप कुमार, प्राचार्य, सिगनल एवं दूरसंचार प्रषिक्षण केन्द्र, गोरखपुर एवं श्री उमा रमण श्रीवास्तव, मुख्य कार्यालय अधीक्षक, लखनऊ मंडल तथा श्री हिमांषु राव, वरिष्ठ प्रचार निरीक्षक, वाराणसी मंडल को भी पुरस्कृत किया गया है।

मुख्य राजभाषा अधिकारी श्री अरविन्द कुमार पाण्डेय ने वर्चुअल बैठक में उपस्थित सभी सदस्यों का स्वागत करते हुए कहा कि यह समय की मांग है कि हमें बैठकें वर्चुअल माध्यम से करनी पड़ रही हैं। उन्होंने कहा कि यह गर्व की बात है कि हमारी रेल को रेल मंत्रालय से प्रायः राजभाषा के क्षेत्र में पुरस्कार मिलता रहा है जो आज की बैठक में स्वतः इसकी गवाही दे रही है। 

उप मुख्य राजभाषा अधिकारी श्री ओमकार नाथ सिंह ने वर्चुअल बैठक में उपस्थित सभी सदस्यों का आभार व्यक्त किया तथा बैठक का संचालन श्री ध्रुव कुमार श्रीवास्तव, राजभाषा अधिकारी ने किया।


                                                       

Comments