5 साल की बच्ची की दुष्कर्म के बाद हत्या, घटना के वक्त ही थाने दौड़ी मां, पुलिस ने भगाया

महिला का कहना है कि पुलिस की ओर से मदद न करने पर वे एसपी के घर पहुंची, तब जाकर पुलिसकर्मी बच्ची को बचाने के लिए बदमाश के घर गए।

हरियाणा के झज्जर से एक झकझोर देने वाला मामला सामने आया है। यहां एक 26 साल के दुर्दांत अपराधी ने एक 5 साल की बच्ची की दुष्कर्म के बाद हत्या कर दी। घटना 20 दिसंबर यानी रविवार रात की है। इसी दिन बच्ची का जन्मदिन था। बताया गया है कि पड़ोस में रहने वाला बदमाश जबरन बच्ची को अगवा कर अपने घर ले गया और घर को अंदर से बंद कर उसे अपनी हवस का शिकार बनाया। बच्ची की मां का दावा है कि जब वे थाने में पुलिस से शिकायत दर्ज कराने गए, तो पुलिसवालों ने उनकी एक नहीं सुनी और सवाल-जवाब करने के बाद उन्हें भगा दिया।

बेटी की चीखों के बावजूद कुछ नहीं कर पाए परिजन: पीड़ित परिवार मूलतः मध्य प्रदेश के दमोह जिले का रहने वाला है और पिछले 25 सालों से झज्जर में ही रह रहा था। यहां उनका पड़ोसी विनोद एक खतरनाक क्रिमिनल था। रविवार को उसने तबियत खराब होने का बहाना कर लड़की के पिता से घर तक छोड़ने के लिए कहा। बच्ची की मां के मुताबिक, खूंखार बदमाश होने की वजह से उनके पति विनोद को छोड़ने चले गए थे। पर इसके बाद बदमाश ने उन्हें अपने घर पर ही कमरे में बंद कर दिया और वापस आकर उनके साथ छेड़छाड़ करने लगा।

महिला ने बताया कि उन्होंने किसी तरह बदमाश से पीछा छुड़ाया और घर के बाहर आकर गली में छिप गईं। पर इस बीच बदमाश उनकी पांच साल की बेटी को उठाकर ले गया। तब तक उनके पति भी किसी तरह बदमाश के घर से भागकर अपने घर वापस आ गए थे। बच्ची के अगवा होने की जानकारी मिलते ही दोनों बदमाश के घर गए। पर उसके गेट पर ताला लगा था और अंदर से बच्ची की चीखने की आवाजें आ रही थीं।

बताया गया है कि इसके बाद दंपति तुरंत झज्जर के पूर्व विधायक दरियाव सिंह राजौरा के बेटे सुरेंद्र के घर गए और पुलिस को घटना की सूचना दी। हालांकि, पुलिसकर्मियों ने वहां कुछ देर सवाल-जवाब करने के बाद उन्हें भगा दिया। इसके बाद उन्होंने एसपी से संपर्क किया। तब पुलिस बदमाश के घर पहुंची और पड़ोस के मकानों की छत से आरोपी के घर में प्रवेश किया। हालांकि, जब तक पुलिस अंदर पहुंची, तब तक बच्ची की जान जा चुकी थी। उसका शव नग्न हालत में कमरे में ही था। आरोपी को भी उसी कमरे से गिरफ्तार कर लिया गया।




Comments