1300 कुत्ते, 100 बिल्लियां, 4 घोड़े को पाल रही हैं ये महिला, रोज पकाती है 500 किलो चावल, सब्ज्यिां, मीट

 

नई दिल्ली। हर किसी को अलग अलग शौक होता है। कोई अच्छा खाने-पीने का शौक रहते है तो किसी को अच्छा दिखना पसंद है। लेकिन आज आपको एक ऐसी महिला के बारे में बताने जा रहे है जो बेजुबान जानवरों के लिए मसीहा बनी हुई है। 68 वर्षीय वेन जुनहॉन्ग (Wen Junhong) पिछले 20 सालों से सड़क के लावारिस और बेसहारा जानवरों घर लाकर उनका पालन-पोषण करती हैं। आपको यह जानकर हैरानी होगी कि अभी उनके घर पर 1300 कुत्ते (Dogs), 100 बिल्लियां (Cats) और 4 घोड़े (Horses) हैं। खास बात यह है कि इनकी देखभाल उन्होंने 6 हेल्पर रखे हुए है।

20 साल पहले कुत्ते को दिया था गोद एक रिपोर्ट के अनुसार, चीन की वेन जुनहॉन्ग बेजुबान जानवरों के लिए मसीहा के नाम से काफी मशहूर है। बताया जा रहा है कि 20 साल पहले वेन ने पहले कुत्ते को गोद लिया था तो उन्होंने कभी नहीं सोचा था कि वो और भी कुत्तों को गोद लेंगी। मौजूदा समय में उनके पास 1300 कुत्ते हैं। वेन ने सोचा है कि वो इतने में ही नहीं रुकेंगी। उनका कहना है कि वह आगे भी बेसहारा कुत्तों को गोद लेती रहेंगी और उनकी देखभाल भी करेंगी।

रोज पकाती है 500 किलो चावल, सब्ज्यिां, मीट 68 साल की उम्र में वेन जुनहॉन्ग रोजाना सुबह 4 बजे उठ जाती है। सबसे पहले वह जानवरों के रहने की जगह की सफाई शुरु करती हैं। सफाई के दौरान कम से कम 30 बैरेल गंदगी हर रोज निकलती है। जानवरों के खाने-पीने का भी वह खास ध्यान रखती है। इनके लिए वह 500 किलो चावल, सब्जियां, मीट आदि पकाती हैं। साथ ही वो ये सुनिश्चित करती हैं कि उनके पेट्स की तबीयत ठीक रहे और वो एक दूसरे से ना लड़ें। इन जानवरों की देखरेख में काफी खर्चा भी होता है।

अपार्टमेंट बेचकर 6 लाख 75 हजार का लिया लोन खबरों के अनुसार, वेन पहले एनवायरोमेंटल टेक्नीशियन थीं। उस नौकरी से मिलने वाली पेंशन से वह इन जानवरों की देखभाल करती हैं। इसके अलावा उन्होंने 60 हजार युआन यानी करीब 6 लाख 75 हजार रुपये का लोन किया हुआ है। अपने एक अपार्टमेंट को बेचकर जो रुपये मिला था, वेन उससे भी अपने खर्चे चलाती हैं।




Comments